Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana – Rs. 1 lakh for SC / ST aspirants clearing BPSC / UPSC prelims

Published Date - 09 May 2018 05:13:25 Updated Date - 09 May 2018 05:14:04

The Bihar Cabinet has announced encouragement incentives of Rs 1 lakh and Rs 50,000 for students belonging to Scheduled Castes (SC) and Scheduled Tribes (ST) categories on qualifying the Union Public Service Commission (UPSC) preliminary test and Bihar Public Service Commission (BPSC) exams respectively. Under this scheme, all the Scheduled Caste (SC) / Scheduled Tribes (ST) students will get Rs. 50,000 and Rs. 1 Lakh respectively as an assistance for clearing preliminary round of civil services examination conducted by Bihar Public Service Commission (BPSC) and Union Public Service Commission (UPSC).

This new scheme will help the students from economically weaker sections to focus on their education without worrying about expenses. Bihar govt. will make payment of this amount / grant in a single installment and this money will get transferred directly into the bank accounts of students.

बिहार के एससी/एसटी छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाने और उन्हें प्रोत्साहन देने के लिए राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. सरकार एससी/एसटी छात्रों को बिहार लोकसेवा आयोग (BPSC) की प्रारंभिक परीक्षा पास करने पर 50 हजार रुपए देगी. वहीं अगर कोई छात्र संघ लोकसेवा आयोग (UPSC) की प्रारंभिक परीक्षा पास करता है तो उसे 1 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी. राज्य सरकार की कैबिनेट की मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में ये अहम निर्णय लिया गया. कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की. राज्य सरकार ने बीपीएससी और यूपीएससी की परीक्षा में एससी/एसटी छात्रों को प्रोत्साहन राशि देने के अलावा हॉस्टलों में रहने वाले छात्रों को अनाज और सहायता राशि देने जैसे कई महत्वपूर्ण फैसले भी लिए हैं.

Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana

Students usually have to move away from their homes to avail better study facilities for the preparation of the civil services examination. So, all the bright candidates who have already cracked PT (preliminary test) of BPSC / UPSC civil services exam will not have to think about expenses, rather they must focus on the preparation for their Mains Examination. For this reason, govt. has introduced a new scheme – “Anusuchit Jati evam Anusuchit Janjati Yojana”.

The scheme as proposed by the SC /ST Welfare Department namely “Mukhyamantri Anusuchit Jati Evam Anusuchit Janjati Civil Seva Protsahan Yojana” is now approved by the state cabinet. State cabinet has decided to provide One time grant of Rs. 50,000 to an SC / ST candidates clearing BPSC prelims and Rs. 1 lakh for clearing prelims of UPSC.

Bihar Mukhyamantri Civil Service Protsahan Yojana is a next major step after the state govt’s flagship “Student Credit Card Scheme”. Under Bihar SCC Scheme, govt. provides loan of up to Rs. 4 lakh to a student after passing Class 12th. However to avail the loan, the annual income of the parents of the candidates must be less than Rs. 1.5 lakh.

Other Decisions in the Cabinet Meeting

— Govt. will provide an assistance of Rs. 1000 to all the boys and girls studying and living in the hostels meant for SCs / STs. This financial assistance will be provided under the Mukhyamantri Anusuchit Jati Evam Janjati Chhatravas Yojana.
— Bihar govt. has extended all the schemes for mahadalits to SC / ST candidates including scheme to provide land for housing or Dashrath Manjhi Skill Development scheme. Now all the schemes run by the Bihar Mahadalit Vikas Mission will also be applicable for SC / ST families.
— The state govt. will also provide 15 Kg Subsidized Wheat & Rice at BPL Rates  to all the students living in hostels run by the SC / ST welfare dept., OBC / EBC welfare dept. and minority affairs welfare department.

 

हॉस्टलोंमेंरहनेवालेछात्रोंकोमिलेगाअनाज
राज्य सरकार ने एससी/एसटी छात्रों को प्रोत्साहन देने के लिए उन्हें हर स्तर पर मदद देने का फैसला किया है. इसके तहत बिहार सरकार हॉस्टलों में रहने वाले एससी/एसटी, आर्थिक रूप से पिछड़ा वर्ग (ईबीसी), अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और अल्पसंख्यक छात्रों को 15 किलो अनाज भी देगी. एससी/एसटी जाति के जो छात्र हॉस्टलों में रहकर पढ़ते हैं, उन्हें राज्य सरकार की ओर से 1 हजार रुपए की सहायता राशि भी दी जाएगी. राज्य सरकार की कैबिनेट के इन फैसलों की जानकारी बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने दी. उन्होंने बताया कि कैबिनेट ने यह भी फैसला लिया है कि एससी/एसटी जाति के लोगों को अब बिहार महादलित विकास मिशन द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओं का भी लाभ मिलेगा. आपको बता दें कि अभी तक अनुसूचित जाति की श्रेणी में पासवान जाति को महादलित विकास मिशन की योजनाओं का लाभ नहीं मिलता था.

हरसाल 2 हजारछात्रपासकरतेहैंपीटी
बिहार के मुख्य सचिव कैबिनेट की बैठक के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि हर साल बिहार के 1500 से 2 हजार एससी/एसटी जाति के छात्र बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करते हैं. वहीं यूपीएससी की पीटी पास करने वाले ऐसे छात्रों की संख्या करीब 200 है. आर्थिक मदद न मिलने के कारण इन सभी छात्रों को मुख्य परीक्षा की तैयारी करने में दिक्कत होती है. राज्य सरकार अब ऐसे सभी छात्रों की सहायता करेगी. इस पर सालाना करीब 10 करोड़ रुपए खर्च होंगे. मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि भविष्य में अगर इन छात्रों की संख्या बढ़ेगी तो भी राज्य सरकार की ओर से सभी को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. उन्होंने बताया कि एससी/एसटी, ईबीसी, ओबीसी और अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावासों में रहने वाले विद्यार्थियों को सरकार अब हर महीने 15-15 किलो अनाज देगी. इसमें 9 किलो चावल और 6 किलो गेहूं होगा. हॉस्टलों में रहने वाले ऐसे छात्रों को अनाज खरीदना न पड़े, इसके लिए राज्य सरकार यह इंतजाम कर रही है. मुख्य सचिव ने बताया कि सरकार के 178 हॉस्टलों में अभी करीब 12 हजार से अधिक विद्यार्थी रह रहे हैं.


Leave Your Comment Here