Connect Delhi Scheme 2019 (Phase 1) Launched – Transport Facilities / Route Identification

Published Date - 07 March 2019 05:52:12 Updated Date - 07 March 2019 05:55:52

दिल्ली सरकार शहर में परिवहन सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए कनेक्ट दिल्ली योजना 2019 चरण 1 शुरू करने का फैसला किया है।दिल्ली में बढ़ते हुए यात्रीयो की संख्या को देखते हुए उनको सही समय सही जगह पर जाने के लिए आसानी से परिवहन का साधन उपलब्ध हो | कनेक्ट दिल्ली पहल दिल्ली में हर पड़ोस और गांव में 500 मीटर के भीतर एक विश्वसनीय सार्वजनिक परिवहन सुविधा का वादा करती है।दिल्ली सरकारद्वारा पायलट प्रोजेक्ट के Phase-1 को जल्द ही नजफगढ़ में लागू किया जाएगा, जहां निवासी 15 मिनट के अंतराल पर परिवहन सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।

राज्य सरकार दिल्ली के मौजूदा बस मार्गों और फीडर सेवाओं का अध्ययन किया है। कम पहुंच, उच्च प्रतीक्षा समय और भीड़भाड़ शहर में बस सेवाओं द्वारा सामना किए जाने वाले कुछ जटिल मुद्दे हैं जिनका निराकरण किया जाना आवश्यक है | लोगो की प्रतीक्षा का समय को घटाना और परिवहन का साधन उपलभ्ध कराना दिल्ली कनेक्ट स्कीम का उद्देश्य है

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सार्वजनिक परिवहन प्रणाली में सुधार करने के लिए। कनेक्ट दिल्ली योजना का पहला चरण शुरू किया है। यह योजना रूट युक्तिकरण प्रणाली के माध्यम से काम करने जा रही है।

Connect Delhi Scheme 2019 (Phase 1) Launch

बस मार्गों और फीडर सेवाओं का युक्तिकरण एक महत्वपूर्ण पहलू है और कनेक्ट दिल्ली योजना संसाधनों के इष्टतम उपयोग के माध्यम से बस और फीडर सेवाओं को युक्तिसंगत बनाएगी। यह योजना शहर में समग्र सार्वजनिक परिवहन प्रणाली की पहुंच, कनेक्टिविटी और दक्षता में सुधार करने जा रही है। यह पहल दिल्ली एकीकृत मल्टी मोडल ट्रांजिट सिस्टम द्वारा किए जा रहे मार्ग युक्तिकरण अध्ययन का एक हिस्सा है। डीआईएमटीएस मौजूदा बस मार्गों और फीडर सेवा मार्गों का अध्ययन कर रहा है और यात्रा और मार्ग की लंबाई के संदर्भ में उसी मार्ग की समानांतर सेवाओं की पहचान की जा रही है।

दिल्ली में बस सेवाओं की मौजूदा स्थितियों और मुद्दों को समझने के लिए DIMTS द्वारा एक विस्तृत अध्ययन किया जा रहा है। न केवल बस मार्गों का बल्कि आरटीवी, ग्रामीण सेवा और फीडर बसों का भी वैज्ञानिक विश्लेषण होगा। प्रारंभिक अध्ययन रिपोर्ट में, यह पाया गया कि कम फीडबिलिटी, उच्च प्रतीक्षा समय, अन्य फीडर सेवाओं के साथ भीड़भाड़ और अतिव्यापी मार्गों जैसे कई मुद्दों और सेवा पदानुक्रम की कमी ने दिल्ली में परिवहन प्रणाली को प्रभावित किया।

तो, सरकार कनेक्ट दिल्ली स्कीम 2019 शुरू करने का फैसला किया है, जिसका उद्देश्य 500 मीटर की पैदल दूरी के भीतर विश्वसनीय परिवहन सुविधा प्रदान करना है। यह चरण 1 नजफगढ़ के क्षेत्र में लागू किया जाएगा जो प्रतीक्षा समय को कम करेगा। प्रस्तावित योजना में किसी भी मौजूदा बस सेवा मार्गों को हटाने का इरादा नहीं है, बल्कि इसका उद्देश्य उनके सुधार करना है।

Transport Facilities & Route Identification – Connect Delhi Program

महत्वपूर्ण बिंदु –

  •  यह योजना शहर में समग्र सार्वजनिक परिवहन प्रणाली की पहुंच, कनेक्टिविटी और दक्षता में सुधार करने जा रही है
  • इसके अलावा, दिल्ली एकीकृत मल्टी मोडल ट्रांजिट सिस्टम द्वारा किए जा रहे मार्ग युक्तिकरण अध्ययन का एक हिस्सा है
  • डीआईएमटीएस मौजूदा बस मार्गों और फीडर सेवा मार्गों का अध्ययन कर रहा है और यात्रा और मार्ग की लंबाई के संदर्भ में उसी मार्ग की समानांतर सेवाओं की पहचान की जा रही है
  • दिल्ली में बस सेवाओं की मौजूदा स्थितियों और मुद्दों को समझने के लिए DIMTS द्वारा एक विस्तृत अध्ययन किया जा रहा है
  • केवल बस मार्गों का बल्कि आरटीवी, ग्रामीण सेवा और फीडर बसों का भी वैज्ञानिक विश्लेषण होगा
  • इतना ही इस योजना के अंतर्गत, अब तक नजफगढ़ के करीबन 17 बस मार्गो की पहचान की चुकी है जैसे की – 
    817 (कैर विलेज-इंद्रलोक), 817N (नजफगढ़-मोरी गेट) और 764 (नजफगढ़-नेहरू प्लेस) आदि

इन ट्रंक मार्गों के अलावा, सरकार ने 8 और प्राथमिक मार्गों की पहचान की है, जहां हर 10 से 20 मिनट के अंतराल पर बस की सुविधा उपलब्ध होगी। इन मार्गों के साथ, एक और 6 फीडर मार्ग हैं जो हर 20 से 45 मिनट में चलेंगे।

राज्य सरकार अधिकारियों की आसान पहचान के लिए अलग-अलग मार्गों के लिए एक अलग रंग योजना शुरू करने की योजना है। दिल्ली सरकार 2 महीने के भीतर 1,000 मानक मंजिल बसों को रोल-आउट करने जा रहा है और 2,500 छोटी बसों की आवश्यकता है जो संकीर्ण गलियों और सड़कों से गुजर सकती हैं। दिल्ली सरकार इन अतिरिक्त छोटी बसों को दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) या क्लस्टर स्कीम के माध्यम से खरीदने की योजना बना रहा है।

 

 


Leave Your Comment Here