Published Date - 19 March 2018 04:26:34 Updated Date - 15 April 2018 02:08:32

Jaivik Kheti Portal(जैविक खेती पोर्टल) Online Registration for Farmers & Traders @ jaivikkheti.in

Central Govt. has launched a new Jaivik Kheti Portal to promote organic farming / jaivik kheti across the country. Subsequently, This portal will promote Rasayan Mukt Bharat Abhiyan and prohibits the use of chemical fertilizers for farming purpose. Accordingly, this portal will provide information on important central government schemes – Rashtriya Krishi Vikas Yojana (RKVY), Paramparagat Krishi Vikas Yojana, Micro-irrigation and MIDH. Subsequently, farmers and traders can make online .

देश में जैविक खेती/ऑर्गेनिक फार्मिंग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रधान मंत्री जी ने पुरे देश में एक पोर्टल लांच किया है. इस पोर्टल का नाम जैविक खेती पोर्टल होगा. इस पोर्टल के द्वारा रसायन मुक्त भारत की सोच को बढ़ावा दिया जायेगा और खेती में अच्छी फसलों के लिए रासायनिक खादों के प्रयोग को प्रतिबंधित किया जायेगा. इस पोर्टल पर केंद्र सरकार की योजनाओं, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (RKVY), परंपरागत कृषि विकास योजना माइक्रो इरीगेशन और एमआईडीएच आदि की जानकारी भी उपलब्ध कराई जाएगी. 
इसके द्वारा किसान और व्यापारी खेतों में मृदा की स्थिति अच्छी रखने के लिए ऑनलाइन तरीके सिख पायेंगे, जिसमे फसलों, पशु अपशिष्टो और फसल अपशिष्टो का प्रयोग किया जायेगा. इस प्रकार इस तरह से मिट्टी को पोषक तत्व प्रदान करने के लिए जैविक पदार्थो और सुक्ष्म जीवो का प्रयोग किया जाता है.

यह पोर्टल खेती के नये और पारंपरिक तरीको का एक मिश्रण होगा. इसके अलावा यहां किसान अपनी फसल सही दाम पर बेच भी सकतें है और यहाँ से व्यापारी भी कृषि उपजों को सीधे किसानों से खरीद सकतें है. इस तरह से यह पोर्टल कई सुविधाये प्रदान करेगा.

Organic Farming aims to cultivate the land in order to keep soil in good condition through crop, animal, and farm waste. Accordingly, this type of farming includes use of biological materials having microbes to provide nutrients to soil.

This portal is a great combination of innovation and traditional methods of farming. Here farmers can sell their agricultural produce at appropriate prices and traders can buy crops directly from farmers.

Jaivik Kheti Portal Online Registration

Here is the complete procedure to make online registration for Jaivik Kheti Portal:-

  • Firstly visit the official website jaivikkheti.in
  • Subsequently on the homepage, click the “Register” button at the top right side of the page or directly click this link
  • Here candidates can make registration as farmer or any other user.
  • Accordingly click “Register as Farmer” and then “Jaivik Kheti Portal Farmer Registration Form” will appear
  • Moreover, Traders can also make their online registration to sell their products. For this, candidates have to click “Register as Other User”. Accordingly, “Jaivik Kheti Portal Trader Registration Form” will appear 
  • Here candidates have to fill all the necessary details and click the submit button to complete the Jaivik Kheti Portal Registration Process.
 

Organic Farming / Jaivik Kheti excludes use of synthetic products like fertilizers, pesticides, hormones and feed additives in farming. Jaivik Kheti relies mainly on crop rotation, crop residues, animal manures, mineral grade rock additives, mobilization of nutrients and protection of plants.

 

जैविक खेती पोर्टल में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रोसेस Jaivik Kheti Portal Online Registration :

यहाँ नीचे इस जैविक खेती पोर्टल में रजिस्ट्रेशन करने की पुरी प्रक्रिया समझाई गई है, जिसके द्वारा आप इसमे आसानी से रजिस्ट्रेशन कर सकते है.

  • इसमे रजिस्ट्रेशन करने के लिए यूजर को सर्वप्रथम इसकी ऑफिशियल वेबसाइट in पर जाना होगा. जब आप यहा पहुँच जातें है तो आपको यहाँ ऊपर की ओर दायें साइड में मौजूद रजिस्ट्रेशन बटन पर क्लिक करना होता है.
  • यहाँ पर आवेदक एक किसान की तरह या व्यापारी की तरह भी रजिस्ट्रेशन कर सकता है. अगर कोई व्यापारी अपने सामान को बेचने के लिए यहाँ अपना रजिस्ट्रेशन करवाना चाहता है तो उसे [Register as Other User (Processor, Exporter, Trader etc.)] ऑपशन को चुनना होगा और किसान को अपने लिए [Register as Farmer] ऑपशन को चुनना होगा.
  • आवेदक किसान या अन्य विकल्प को चुनता है तो उसके लिए संबंधित फॉर्म यहाँ उपलब्ध हो जाता है. अब आवेदक को इस फॉर्म में उपलब्ध सारी जानकारी को अच्छे से पढ़कर इसे भर देना चाहिये.
  • जब यह आवेदक यह फॉर्म भर लेता है तो वह सबमिट बटन पर क्लिक करके अपना फॉर्म सबमिट कर सकता है.

जैविक खेती में रासायनिक उत्पादों जैसे उर्वरक, कीटनाशक,  खरपतवार नाशक आदि के प्रयोग को प्रतिबंधित किया जाता है. जैविक खेती में मुख्य रूप से फसलों को अदल बदल कर बोना, फसलों के अवशेष, पशु अवशेषों सुक्ष्म जीवों  आदि के द्वारा फसलों को उर्वरकता प्रदान की जाती है.

 

Converting Chemical Farming to Organic Farming – 10 Points

Farmers must follow the following 10 steps to transform their farming process to organic farming:-

  1. Use of Pesticides, fertilizers and weedicides needs to get eliminated.
  2. Subsequently, farmers must also stop using chemically treated seeds as well as GMO products.
  3. In addition to this, farmers must adopt either Multiple cropping system or Inter cropping or Crop rotation or Agri + Horti + forestry system or Trap Crops.
  4. Farmers must prepare their own compost using organic manures such as cow dung etc. For this farmers will have to perform seed treatment like Beejamrutham and Waste decomposer. In addition for soil nutrition, farmers can prefer panchgayva, jeevamrutham, biofertilizer, biopesticide and biological inputs. For growth of plants, farmers can use AmrithPani, MatkhaKahd and waste decomposer. Finally for plant protection, farmers can use Neemastra, Bramshtra and Dashparni Extract.
  5. Moreover, natural resources like compost, mulching, green manuring, house hold waste should be recycled.
  6. Adoption of Animal Husbandry (Desi Cattle), fisheries, poultry, goats and birds without use of antibiotics,
    hormones and injections.
  7. Farmers must begin using their own seeds and chemically untreated seeds.
  8. Har Med Per Peadh – Farmers must use different kind of nitrogen harvesting plants which will assure natural predator, compost source, winds barrier and buffer zones.
  9. Accordingly, govt. must focus on stop burning of crop wastage and start in-situ composting.

10. Finally, farmers must do PGS-India Certification absolutely free.

After adopting all the above mentioned steps, farmers will turn into an organic farmer. Green Revolution is essential for sustainability of life and property.

रासायनिक खेती का जैविक खेती में परिवर्तन Converting Chemical Farming to Organic Farming

  • खेतों में रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों आदि के उपयोग को समाप्त करने की जरुरत है. इसी के साथ किसानों को रासायनिक रूप से तैयार बीजो और जीएमओ प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल भी बंद करना होगा.
  • इसके लिए किसानों को कृषि के परंपरागत तरीको जैसे एक खेत में अलग – अलग फसल लगाना या फसलों को अदल बदल के लगाना, जैविक खादों का प्रयोग आदि को अपनाना चाहियें.
  • इसके अलावा किसान को अपने खेत के लिए खाद स्वयं तैयार करना चाहियें और इसके लिए वह पशु अपशिष्टो और कृषि अपशिष्टो का प्रयोग भी कर सकता है. किसानों को खेतो में फसलों में जैविक उर्वरक जैविक कीटनाशक आदि का प्रयोग ही करना चाहियें.
  • पशु पालन, मुर्गी पालन, मछली पालन और पक्षियों के लिए भी एंटीबायोटिक इंजेक्शन या अन्य किसी रासायनिक पदार्थ का प्रयोग नहीं करना चाहियें.
  • किसानों को बाजार में उपलब्ध रासायनिक तरीको से तैयार किये गये बीजों की अपेक्षा फसलों के लिए खुद के द्वारा तैयार किये गये बीजों का इस्तेमाल करना चाहियें.
  • किसान को खेत में मेढ़ में विशेष प्रकार के पेड़ लगाना चाहियें. जिसके द्वारा पवन बाधा, कम्पोस्ट सोर्स और बफर जोन को कवर किया जा सकता है.
  • इसके अलावा किसानों को पीजीएस इंडिया सर्टिफिकेट मुफ्त में बनाकर दिया जायेगा.

इस सब तरीको को फॉलो करने के बाद किसान की खेती जैविक खेती में परिवर्तित हो पायेगी. जो कि हमारे जीवन और अन्य जीवों के लिए लाभप्रद होगा.

 


singailung

26-03-2018

What will be the profit for beneficiary

singailung

23-03-2018

What will be the profit for beneficiary

Rocky kumar

10-07-2018

Organik kehti karna chate hu

Leave Your Comment Here